लिखता हूँ / Likhta Hu_Love Poetry 2019

“बातों के दरमियान पनपती अपनी मोहब्बत लिखता हूँ , तुझे देख होंठों पे जो मुस्कान सजती बस वही मुस्कान की छाप लिखता हूँ ! तेरी ही बातों में खोया अपने आप को मदहोश लिखता हूँ , तू बेख़बर मेरे जिन एहसासों से बस उन्हीं एहसासों के राग लिखता हूँ , जिसमें तू ही सुर तू … More लिखता हूँ / Likhta Hu_Love Poetry 2019

Love Poetry_मुझे इतना ही याद है

कल की बातों का जिक्र मुझे आज भी याद है तुझे भूलकर देखा पर आज भी तुझसे मेरा याराना याद है वो तुमसे दिल का लगाना याद है; तू गई भले दूर मुझसे, पर तुझे हर पल महसूस करना याद है अब कहने को तो बचा नहीं कुछ पर तेरी कही हर बात मुझे आज … More Love Poetry_मुझे इतना ही याद है

Hindi love shayari “मेरा महबूब मेरा चाँद”

आसमान में आसमान का तारा नजर आ गया नीचे नजरें झुकीं,तो जमीं पर चाँद नजर आ गया वो चाँद जिसकी खूबसूरती पर मेरा दिल आ गया जिसे देख आँखों में भी जैसे नूर आ गया; एक बार को तो धोखा हुआ, कि वो चाँद फलक का,नीचे कैसे आ गया पर असल सच तो कुछ यूँ … More Hindi love shayari “मेरा महबूब मेरा चाँद”

Love Poetry_प्यार जो मुझ तक ही रह गया / Pyaar Jo Mujh Tak Hi Rah Gaya_Ankit AKP

थोड़े-थोड़े लफ्जों में,  कितना कुछ कहना रह गया  प्यार था जो मेरा,  वो बस मुझ तक ही रह गया रह गया वो प्यार मुझ तक इसलिए,  कि तुम तक आना रह गया कहने को तो आ भी जाते, बस हिम्मत जुटाना रह गया  कहने को तो हिम्मत भी जुटाई,  पर डर के सामने जरा कम … More Love Poetry_प्यार जो मुझ तक ही रह गया / Pyaar Jo Mujh Tak Hi Rah Gaya_Ankit AKP

Hindi poetry_कैसे / Kaise_Ankit AKP_2018

कैसे मैं खुद को बतलाऊँ कि क्या हूँ मैं कैसे इस जहान में अपनी पहचान बनाऊँ मैं कैसे उस मंजिल तक जाऊँ जो लक्ष्य है मेरी जिन्दगी का कुछ तो खास है मुझमें कैसे यह खुद को विश्वास दिलाऊँ; हर राह पर हो ईश्वर साथ मेरे कैसे यह यह उम्मीद जताऊँ मैं जिस भी राह … More Hindi poetry_कैसे / Kaise_Ankit AKP_2018

वो, उसका मुखड़ा और मेरा इश्क /Woh, Uska Mukhda aur Mera Ishq _ Hindi love poetry or shayari

आजकल वो जैसे मेरे, गीतों का सुर बांधती है गले में जैसे मेरे, सरस्वती बन विराजती है; मेरी हर बातों, हर शब्दों में मेरे, बस वही मिठास लाती है एक वही तो है जो बोली से मेरे, मेरी अलग ही पहचान कराती है और लोगों में मुझको खास बनाती है; वो कुदरत का एहसास कराती … More वो, उसका मुखड़ा और मेरा इश्क /Woh, Uska Mukhda aur Mera Ishq _ Hindi love poetry or shayari

दिल अब इंसान हो चला है/Dil Ab Insaan Ho Chala Hai_Ankit AKP_Hindi Love Poetry 2018

” दिल अब इंसान हो चला है “ मेरा दिल कुछ पाक सा हो चला है  मुझे नहीं पता किस कदर  पर लगता है इंसान सा हो चला है  वो इसांन जो हर बुराई से दूर,  और अच्छाई पर चला है  हर सुख-दु:ख पर,  हर किसी के साथ चला है  इस दिल को भी ऐसा … More दिल अब इंसान हो चला है/Dil Ab Insaan Ho Chala Hai_Ankit AKP_Hindi Love Poetry 2018