Hindi love shayari “मेरा महबूब मेरा चाँद”

आसमान में आसमान का तारा नजर आ गया नीचे नजरें झुकीं,तो जमीं पर चाँद नजर आ गया वो चाँद जिसकी खूबसूरती पर मेरा दिल आ गया जिसे देख आँखों में भी जैसे नूर आ गया; एक बार को तो धोखा हुआ, कि वो चाँद फलक का,नीचे कैसे आ गया पर असल सच तो कुछ यूँ … More Hindi love shayari “मेरा महबूब मेरा चाँद”

Love Poetry_प्यार जो मुझ तक ही रह गया / Pyaar Jo Mujh Tak Hi Rah Gaya_Ankit AKP

थोड़े-थोड़े लफ्जों में,  कितना कुछ कहना रह गया  प्यार था जो मेरा,  वो बस मुझ तक ही रह गया रह गया वो प्यार मुझ तक इसलिए,  कि तुम तक आना रह गया कहने को तो आ भी जाते, बस हिम्मत जुटाना रह गया  कहने को तो हिम्मत भी जुटाई,  पर डर के सामने जरा कम … More Love Poetry_प्यार जो मुझ तक ही रह गया / Pyaar Jo Mujh Tak Hi Rah Gaya_Ankit AKP

Hindi poetry_कैसे / Kaise_Ankit AKP_2018

कैसे मैं खुद को बतलाऊँ कि क्या हूँ मैं कैसे इस जहान में अपनी पहचान बनाऊँ मैं कैसे उस मंजिल तक जाऊँ जो लक्ष्य है मेरी जिन्दगी का कुछ तो खास है मुझमें कैसे यह खुद को विश्वास दिलाऊँ; हर राह पर हो ईश्वर साथ मेरे कैसे यह यह उम्मीद जताऊँ मैं जिस भी राह … More Hindi poetry_कैसे / Kaise_Ankit AKP_2018

दिल अब इंसान हो चला है/Dil Ab Insaan Ho Chala Hai_Ankit AKP_Hindi Love Poetry 2018

” दिल अब इंसान हो चला है “ मेरा दिल कुछ पाक सा हो चला है  मुझे नहीं पता किस कदर  पर लगता है इंसान सा हो चला है  वो इसांन जो हर बुराई से दूर,  और अच्छाई पर चला है  हर सुख-दु:ख पर,  हर किसी के साथ चला है  इस दिल को भी ऐसा … More दिल अब इंसान हो चला है/Dil Ab Insaan Ho Chala Hai_Ankit AKP_Hindi Love Poetry 2018

तुमसे प्यार हो गया है/Tumse Pyaar Ho gaya_Hindi Love Poetry or Shayari_2018_Ankit AKP

“तुमसे प्यार हो गया है !!” वक़्त भी थम गया,  सांसे भी थम गयी  तुमने जब छुआ तो, दिल की धड़कन भी गयी; ना जाने क्या जादू हो गया  कि हर वक़्त पर,  तेरा काबू हो गया  कभी ठहरा, कभी चला  घड़ी की सुईयों पर भी,  मानो तेरा जादू हो गया ये वक़्त अब जैसे, … More तुमसे प्यार हो गया है/Tumse Pyaar Ho gaya_Hindi Love Poetry or Shayari_2018_Ankit AKP

तुम भी कर लिया करो/Tum Bhi Kar Liya Karo_Love Poetry or shayari_Ankit AKP_2018

”तुम भी कर लिया करो” हल्की-फुल्की कोशिशें, तुम भी कर लिया करो; मोहब्बत है, कोई पाप नहीं हम तो करते ही हैं, कुछ तुम भी कर लिया करो; ऐतबार है उस मोहब्बत पे हमको, जो मोहब्बत हम तुमसे करते हैं ‘गर एेतबार हमारी मोहब्बत पे हो तुमको भी, तो कुछ तुम भी कर लिया करो; … More तुम भी कर लिया करो/Tum Bhi Kar Liya Karo_Love Poetry or shayari_Ankit AKP_2018

अभी-अभी /Abhi-Abhi _Hindi Sensitive poem

अभी-अभी तो वह रेंगा था लोगों ने उसे कुचलना शुरू कर दिया; उसने लोगों से अपनी जान बचानी चाही तो लोगों ने उसे हमला समझ लिया; आखिर क्या किया गुनाह है उसने जो लोग उसे अपना दुश्मन समझ बैठे; मिली जिन्दगी उसे वही जो मिली जिन्दगी औरों को फिर क्यों उसकी जिन्दगी का मोल नहीं … More अभी-अभी /Abhi-Abhi _Hindi Sensitive poem

मुझे रावण का जलना बिल्कुल समझ न आया_Ankit AKP

न जाने कैसा मंजर था उस रावण-दहन में बच्चे की होंठों पे मुस्कान देखी, तो रावण का जलना समझ में आया लेकिन जब राम की भेष में धनुष उठाए उस शख़्स के चेहरे में एक सुकून भरी जैसी खुशी देखी, तब मुझे रावण का जलना समझ बिल्कुल न आया क्योंकि बच्चे के लिए तो जो … More मुझे रावण का जलना बिल्कुल समझ न आया_Ankit AKP